Forex भारत

उपलब्ध बाजार और ब्रोकरेज उत्पाद

उपलब्ध बाजार और ब्रोकरेज उत्पाद
कू (Koo) पर एचडीएफसी सिक्योरिटीज के पदार्पण पर, कू के सह-संस्थापक और सीईओ, अप्रमेय राधाकृष्ण ने कहा, "अंग्रेजी सहित आठ भारतीय भाषाओं का समर्थन करने वाली कू ऐप पर एचडीएफसी सिक्योरिटीज का पदार्पण एक उपयुक्त समय पर हो रहा है।एचडीएफसी सिक्योरिटीज डिजिटल ट्रेडिंग पर अपना ध्यान केंद्रित करेगी और भारत के भीतरी इलाकों में और अधिक पैठ बनाएगी। कू (Koo) अपनी मूल भाषाओं में बोलने और सोचने वाले भारतीयों के साथ उन्हें जोड़ने की सुविधा के लिए एक पूर्णतया स्वाभाविक भागीदार है।''

प्राथमिक बाजार और द्वितीयक बाजार के बीच अंतर

बाजार में उत्पादों का व्यापार शामिल नहीं है। निवेश के रूप में कारोबार की जा रही कई चीजों के बॉन्ड, शेयर और स्टिक्स प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट के अंतर्गत आते हैं। उन दोनों से संबंधित नीतियों के विभिन्न स्तर हैं।

प्राथमिक और द्वितीयक बाजारों के बीच मुख्य अंतर यह है कि एक कंपनी को प्रतिभूतियों के निर्माण में मदद करता है जबकि दूसरा (माध्यमिक बाजार) वह बाजार है जो कंपनी को अपनी लागत बनाने में मदद करता है। प्राथमिक बाजार में, स्टॉक जारी उपलब्ध बाजार और ब्रोकरेज उत्पाद किए जाते हैं, और द्वितीयक बाजारों में, स्टॉक जारी होने के बाद कारोबार किया जाता है। शेयरों की मुद्रा भिन्नता द्वितीयक बाजार में देखी जाती है जबकि शेयर की लागत प्राथमिक बाजार में तय की जाती है, केवल उनके द्वारा लाए गए शेयरों की संख्या शेयरों की खरीद में अंतर बनाती है।

प्राथमिक बाजार तब चलन में आता है जब कंपनी अपने शेयरों को पहली बार बेचती है। प्राथमिक बाजार में दलाल शामिल नहीं होते हैं और यह सीधे कंपनी से आता है। प्राथमिक बाजार वह बाजार है जहां प्रतिभूतियों का निर्माण किया जाता है। आरंभिक सार्वजनिक पेशकश प्राथमिक बाजार का सबसे अच्छा उदाहरण है। निवेशक को या तो एक अच्छी राशि या छोटे मासिक भुगतान में निवेश करने की अनुमति है।

प्राथमिक बाजार और द्वितीयक बाजार के बीच तुलना तालिका

तुलना के पैरामीटरप्राइमरी मार्केटद्वितीयक बाज़ार
परिभाषाप्राथमिक बाजार का उपयोग उस बाजार के रूप में किया जाता है जहां कंपनी अपने शेयर और स्टॉक सीधे बेचती है।सेकेंडरी शेयर और स्टॉक बेचने के बाद आता है। यह इनसाइड ट्रेडिंग जैसा है।
अन्य नामोंप्राइमरी मार्केट का दूसरा नाम न्यू इश्यू मार्केट है।सेकेंडरी मार्केट का दूसरा नाम आफ्टर इश्यू मार्केट है।
मुख्य उद्देश्यप्राथमिक बाजार का मुख्य उद्देश्य प्रतिभूतियों का निर्माण करना है।सेकेंडरी मार्केट का मुख्य उद्देश्य स्टॉक की ट्रेडिंग करना और शेयर की लागत में वृद्धि करना है। इससे कंपनी को अपनी वैल्यू बढ़ाने में मदद मिलती है।
कार्य प्रगतिकार्य प्रक्रिया में कंपनी द्वारा बिना किसी मध्यवर्ती के प्रत्यक्ष बिक्री शामिल है।कार्य प्रक्रिया में कंपनी द्वारा प्रत्यक्ष बिक्री शामिल नहीं है।
बिक्रीबिक्री कंपनी द्वारा ही की जाती है।बिक्री ब्रोकरेज के माध्यम से की जाती है और शेयर कंपनी द्वारा ही नहीं बेचे जा रहे हैं।
कीमतशेयर की कीमत प्राथमिक बाजार में तय होती है।लागत स्टॉक और शेयरों की आवश्यकता उपलब्ध बाजार और ब्रोकरेज उत्पाद उपलब्ध बाजार और ब्रोकरेज उत्पाद के अनुसार बदलती रहती है।
उदाहरणआईपीओ प्राइमरी मार्केट का सबसे अच्छा उदाहरण है।नेशनल स्टॉक एक्सचेंज सेकेंडरी मार्केट के लिए सबसे अच्छा उदाहरण है।

सेकेंडरी मार्केट क्या है?

द्वितीयक बाजार तब सक्रिय होता है जब प्राथमिक बाजार के शेयर बेचे जा चुके होते हैं। द्वितीयक बाजार में शेयरों और शेयरों के दलालों के भीतर व्यापार शामिल है। सेकेंडरी मार्केट का दूसरा नाम आफ्टर इश्यू मार्केट या स्टॉक मार्केट है। इस बाजार में व्यापारी आपस में निवेश करते हैं।

द्वितीयक बाजार में शेयरों की लागत में एक कार्य होता है जो शेयरों की आवश्यकता पर निर्भर करता है। द्वितीयक बाजार में कंपनी की प्रत्यक्ष भागीदारी शामिल नहीं है। जैसे अगर आप कंपनी ए का शेयर खरीदना चाहते हैं, तो आपको इसे ब्रोकरेज बी के माध्यम से खरीदना होगा। बांड इन शेयरों से बनते हैं, और निवेशक को संपत्ति में उल्लिखित राशि का भुगतान किया जाता है। लेकिन निवेशक चाहें तो थोड़े से लाभ पर दूसरों को बाइंड भी बेच सकता है।

द्वितीयक बाजार में नीलामी बाजार शामिल होता है जहां खरीदार और विक्रेता शेयरों पर बोली लगाते हैं। डीलर मार्केट जहां खरीदार और विक्रेता एक डिजिटल नेटवर्क के माध्यम से जुड़े हुए हैं। डीलर मार्केट को ओवर उपलब्ध बाजार और ब्रोकरेज उत्पाद द काउंटर (OTC) मार्केट भी कहा जाता है। जहां कंपनी के शेयर सूचीबद्ध होते हैं और खरीदार स्टॉक खरीदने के लिए विक्रेता से संपर्क करते हैं।

ट्रेडिंग शुरू करने से पहले स्टॉकब्रोकर कैसे चुनें?

ट्रेडिंग शुरू करने से पहले स्टॉकब्रोकर कैसे चुनें?

आर्थिक मंदी के बावजूद , खोले जा रहे नए डीमैट खातों की संख्या जो मार्च २०१९ तक 35.9 मिलियन थी वो मार्च 2020 में बढ़कर 40.8 मिलियन हो गई है । इसके अलावा , इक्विटी कैपिटल मार्केट्स ने अगस्त 2020 को समाप्त होने वाली 5 महीने की में अवधि 24% की साल दर साल की वृद्धि दिखाई है। नए डीमैट खातों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि और शेयर बाजार गतिविधियों में बढ़ोतरी भारतीय शेयर बाजार में रीटेल निवेशकों की बढ़ते हुए भागीदारी को दर्शाता है।

शेयर बाजार में ट्रेडिंग उपलब्ध बाजार और ब्रोकरेज उत्पाद करने वाले नए निवेशकों के पास फुल -सर्विस ब्रोकरेज फर्म और डिस्काउंट ब्रोकरेज फर्म यह दो विकल्प होते है।

डिस्काउंट ब्रोकरेज बनाम फुल -सर्विस ब्रोकरेज

भारतीय ब्रोकरेज उद्योग पिछले कुछ वर्षों में इन दो प्रमुख सेवाओं को प्रदान कर रही है -

डिस्काउंट ब्रोकर : एक डिस्काउंट ब्रोकर वह है जो डीमैट और ट्रेडिंग खातों की बुनियादी सेवाएं किफायती मूल्य में प्रदान करता है। यहाँ आप न केवल सब्सक्रिप्शन प्लान्स का चयन कर सकते हैं बल्कि कम ब्रोकरेज दरों का लाभ भी उठा सकते है।

फुल -सर्विस ब्रोकर : ये वित्तीय संस्थान हैं जो स्टॉक ट्रेडिंग सेवाओं के साथ-साथ अनुसंधान और सलाह प्रदान करते हैं। हालांकि, वे उपलब्ध बाजार और ब्रोकरेज उत्पाद तुलनात्मक रूप से अधिक ब्रोकरेज लेते हैं जो आपके ट्रेडिंग वॉल्यूम के आनुपातिक होते हैं।

आजकल अधिकतर नए निवेशकों का डिस्काउंट ब्रोकरेज की ओर अधिक झुकाव है क्योंकि यह उनको कम मूल्य पर अधिक ट्रेड करने का मौका देता है।

ब्रोकर चुनते समय इन तथ्यों का विचार करे : ब्रोकर का चयन आपके ट्रेडिंग करने के अनुभव और ट्रेडिंग के दौरान जो ब्रोकरेज के खर्च आते हैं उसपे उल्लेखनीय प्रभाव डालेगा। नीचे कुछ महत्वपूर्ण मापदंड दिए गए हैं जिनका मूल्यांकन आप एक सही ब्रोकर को चुनने के दौरान कर सकते है।

निवेशकों के लिए बड़ी खबर! 2021 में भी सरपट दौड़ेगा बाजार, Sensex 50,500 तो Nifty छुएगा 15000 अंक का स्‍तर

भारतीय शेयर बाजारों में बजट 2021 पेश किए जाने के बाद से तेजी का दौर जारी है.

भारतीय शेयर बाजारों में बजट 2021 पेश किए जाने के बाद से तेजी का दौर जारी है.

भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) और शेयर बाजारों (Indian Stock Markets) की रफ्तार में तालमेल नहीं होने के बाद भी . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : December 15, 2020, 21:16 IST

मुंबई. भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) और शेयर बाजारों (Indian Share Markets) की चाल के बीच तालमेल नहीं होने को लेकर सवाल उठते रहते हैं. इसके बाद भी फ्रांस की ब्रोकरेज कंपनी बीएनपी उपलब्ध बाजार और ब्रोकरेज उत्पाद परिबास (BNP Paribas) को भारतीय शेयर बाजारों को लेकर काफी उम्मीदें हैं. बीएनपी परिबास ने मंगलवार को कहा कि बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज (BSE) का संवेदी सूचकांक सेंसेक्स (Sensex) 2021 के आखिर तक करीब 9 फीसदी बढ़कर 50,500 अंक पर पहुंच जाएगा. वहीं, ग्लोबल ब्रोकरेज हाउस जेपी मॉर्गन (JP Morgan) का मानना है कि दिसंबर 2021 तक नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज (NSE) का निफ्टी (Nifty) 15000 का स्तर छूने में कामयाब रहेगा.

HDFC सिक्योरिटीज Koo पर पदार्पण करने वाला बना पहला भारतीय ब्रोकरेज हाउस

भारत के प्रमुख ब्रोकिंग हाउसों में से एक, एचडीएफसी सिक्योरिटीज (HDFC Securities) ने अपने ग्राहकों तक पहुंचने और वित्तीय साक्षरता के व्यापक निर्माण के लिए माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म - कू (Koo) पर अपनी शुरुआत की। कू ऐप पर @hdfcsec HDFC Securities - hdfcsec Profile on Koo (kooapp.com) का उपयोग करते हुए, वो अंग्रेजी और हिंदी दोनों में ग्राहकों के साथ बातचीत करने के लिए भारत के नए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का लाभ उठाएंगे।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के सीएमओ और सीडीओ गगन सिंगला ने एसोसिएशन पर कहा, “हम कू (Koo) पर अपनी उपस्थिति दर्ज करने के लिए बेहद उत्साहित हैं। कू की बहुभाषी पेशकशों के माध्यम से, हम क्षेत्रीय भाषाओं में कंटेंट बनाकर पूंजी बाजार को सीखने में लग रहे समय को कम करना चाहते हैं।''

कू (Koo) कैसे डाउनलोड करें

यह ऐप यूजर्स के लिए ऐप स्टोर और प्लेस्टोर पर डाउनलोड करने के लिए उपलब्ध है। यूज़र्स के पास अपने मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी का उपयोग करके रजिस्ट्रेशन करने का विकल्प होता है। एक बार रजिस्ट्रेशन पूरा हो जाने के बाद वे कू पर अपने पसंदीदा हस्तियों, एथलीटों, राजनेताओं, मनोरंजनकर्ताओं और विचारशील व्यक्तित्वों को फॉलो कर सकते हैं। कू यूज़र्स को उनकी मूल भाषाओं में संवाद करने की सुविधा देकर सशक्त बनाता है।

कू (Koo) की स्थापना मार्च 2020 में भारतीय भाषाओं के लिए बने एक माइक्रो-ब्लॉगिंग मंच के रूप में की गई थी। कई भारतीय भाषाओं में उपलब्ध इस ऐप पर भारत के विभिन्न क्षेत्रों के लोग अपनी मातृभाषा में खुद को व्यक्त कर सकते हैं। एक ऐसे देश में जहां भारत का सिर्फ 10% हिस्सा अंग्रेजी बोलता है, वहां एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की गहरी जरूरत उपलब्ध बाजार और ब्रोकरेज उत्पाद है जो भारतीय यूज़र्स को व्यापक भाषा अनुभव प्रदान कर सके और उन्हें आपस में जुड़ने में मदद कर सके। कू उन भारतीयों की आवाज़ के लिए एक मंच प्रदान करता है जो भारतीय भाषाओं में स्वयं को व्यक्त करना पसंद करते हैं।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज

एचडीएफसी सिक्योरिटीज भारत में अग्रणी स्टॉक ब्रोकिंग कंपनियों में से एक है और एक प्रसिद्ध निजी क्षेत्र के बैंक, एचडीएफसी बैंक की सहायक कंपनी है। स्टॉक ब्रोकिंग कंपनी के रूप में, एचडीएफसी सिक्योरिटीज को संचालन में 20 से अधिक वर्ष हो चुके हैं। ये इक्विटी, गोल्ड, डेब्ट और रियल एस्टेट जैसे विभिन्न परिसंपत्ति वर्गों में उत्पादों और सेवाओं का एक पैकेज प्रदान करते हैं। इनमें स्टॉक, डेरिवेटिव, म्यूचुअल फंड,फिक्स्ड डिपॉज़िट, एनसीडी, बीमा, बांड और मुद्रा डेरिवेटिव में से कोई भी सेवा प्राप्त कर सकते हैं।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज व्यापार करने के लिए वेब 2.0 तकनीक प्रदान करती है और इनकी अत्याधुनिक तकनीक दोनों एक्सचेंज, बीएसई और एनएसई पर निर्बाध ट्रेडिंग अनुभव को सक्षम बनाती है।

ट्रेडिंग में एक दशक के अनुभव और ए1+1 की रेटिंग के साथ, एचडीएफसी सिक्योरिटीज की वित्तीय सेवा उद्योग में एक सिद्ध वंशावली है। साथ ही 200 से अधिक शाखाओं के माध्यम से ये ग्राहकों की निवेश आवश्यकताओं को पूरा करते हैं।

अगले वित्त वर्ष में नौ प्रतिशत रह सकती है भारत की आर्थिक वृद्धि दर: क्रेडिट सुइस

ब्रोकरेज कंपनी ने चालू वित्त वर्ष के लिये जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर लगभग 10.5 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है। यह विभिन्न एजेंसियों के जताए गए औसतन अनुमान 8.4-9.5 प्रतिशत से ज्यादा है।

क्रेडिट सुइस ने कहा कि कंपनी की नीति के अनुरूप वह वास्तविक आर्थिक वृद्धि का अनुमान नहीं जताती है। हालांकि उपलब्ध आंकड़ों और अनुमानों के सांख्यिकी विश्लेषण के आधार पर 2022-23 में भारत की वृद्धि दर 9 प्रतिशत पर रहने का अनुमान है।

क्रेडिट सुइस के एशिया प्रशांत के लिये इक्विटी रणनीति मामलों के सह-प्रमुख और भारत इक्विटी रणनीतिकार नीलकंठ मिश्रा ने पीटीआई-भाषा से कहा कि उन्हें जीडीपी पूर्वानुमान में वृद्धि की उम्मीद है क्योंकि आर्थिक पुनरुद्धार की गति ने आश्चर्यचकित किया है।

रेटिंग: 4.55
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 188
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *